LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

रविवार, अप्रैल 03, 2011

सच हुआ सपना

28 वर्ष बाद वो ऐतिहासिक घड़ी आ ही गई , जब भारत ने दोबारा विश्व कप को चूमा . टीम इंडिया इसके लिए बधाई की पात्र है . उन्होंने जिस तरीके से आस्ट्रेलिया , पाकिस्तान और श्रीलंका को हराया वो सामूहिक प्रयास का ही नतीजा था .फाइनल की जीत तो लाजवाब थी  बल्लेबाज़ी में असफल चल रहे कप्तान धोनी ने भी फार्म में लौटने के लिए सही दिन चुना और कप्तानी पारी खेलकर टीम को चैम्पियन बनाया . गंभीर ने भी इस मैच में शानदार 97 रन बनाए . भारतीय टीम का फाइनल में क्षेत्ररक्षण का स्तर भी बहुत ऊँचा रहा . सहवाग -सचिन के जल्दी आउट होने के बाद कोहली ,गंभीर ,धोनी , युवराज ने जीत सुनिश्चित करके ही दम लिया .
            पूरे टूर्नामैंट को देखें तो सभी खिलाडियों ने अपना शत-प्रतिशत योगदान दिया . युवराज़ का श्रेष्ट खिलाडी चुना जाना उसके उपयोगी खिलाडी होने का सबूत है . सचिन सर्वाधिक रन बनाने वालों में दूसरे स्थान पर रहे . जहीर ने सर्वाधिक विकेट चटखाए .हरभजन , मुनाफ , अश्विन , नेहरा ने उपयोगी गेंदबाज़ी की , सारे बल्लेबाज़ तो रंग में थे ही . कुलमिलाकर पन्द्रह सदस्यी दल में कोई भी खिलाडी कमजोर कड़ी साबित नहीं हुआ . सभी खिलाडी पूरे टूर्नामैंट में फिट रहे यह भी बड़ी बात है . 
                 खिलाडियों के साथ कोच और अन्य स्टाफ के योगदान को भी नहीं भूला जाना चाहिए . कोच गैरी को बिखरी हुई टीम मिली थी , जिसे उसने पर्दे के पीछे रहकर संवारा . उन्होंने कभी भी ग्रेग चैपल की तरह सुर्ख़ियों में आने की कोशिश नहीं की , यही कारण है कि वे विवादों से बचे रहे और टीम और कप्तान के साथ उनका तालमेल बना रहा . गैरी का यह भारतीय टीम के साथ अंतिम मैच था . भारतीय टीम ने उसे शानदार विदाई दी है .
           इस मैच के साथ ही क्रिकेट के एक युग का भी अंत हुआ . मुरलीधरन की फिरकी अब अंतर्राष्ट्रीय मैचों में नहीं दिखेगी . हालाँकि उनकी विदाई विश्व कप के साथ नहीं हो पाई , फिर भी इस महान खिलाडी को सलाम किया जाना चाहिए . मुरली की तरह ही शायद यह सचिन का भी अंतिम विश्व कप माना जा रहा है . इस आखरी मैच में सचिन-मुरली की भिडंत तो नहीं हो पाई लेकिन सचिन का सपना जरूर पूरा हुआ .सचिन अभी खेल रहे हैं और क्रिकेट प्रेमी उनसे एकदिवसीय मैचों में पचास शतक और बीस हजार रन बनाए जाने की उम्मीद लगाए बैठे हैं .यह पड़ाव बहुत दूर भी नहीं है , लेकिन इतना सच है कि सचिन बहुत लम्बा नहीं खेल पाएंगे . टीम इंडिया का भविष्य युवा खिलाडी हैं .और भारत का विश्व चैम्पियन बनना और इसमें युवाओं का योगदान देखते हुए लग रहा है कि भारतीय क्रिकेट का भविष्य उज्ज्वल है .भारत के विश्व चैम्पियन बनने पर पूरे देश को बधाई .

                     * * * * *

4 टिप्‍पणियां:

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

पूरे देश को बधाई ...टीम इंडिया को बधाई.....

हरीश सिंह ने कहा…

बहुत अच्छी पोस्ट, शुभकामना, मैं सभी धर्मो को सम्मान देता हूँ, जिस तरह मुसलमान अपने धर्म के प्रति समर्पित है, उसी तरह हिन्दू भी समर्पित है. यदि समाज में प्रेम,आपसी सौहार्द और समरसता लानी है तो सभी के भावनाओ का सम्मान करना होगा.
यहाँ भी आये. और अपने विचार अवश्य व्यक्त करें ताकि धार्मिक विवादों पर अंकुश लगाया जा सके., हो सके तो फालोवर बनकर हमारा हौसला भी बढ़ाएं.
मुस्लिम ब्लोगर यह बताएं क्या यह पोस्ट हिन्दुओ के भावनाओ पर कुठाराघात नहीं करती.

हल्ला बोल ने कहा…

धार्मिक मुद्दों पर परिचर्चा करने से आप घबराते क्यों है, आप अच्छी तरह जानते हैं बिना बात किये विवाद ख़त्म नहीं होते. धार्मिक चर्चाओ का पहला मंच ,
यदि आप भारत माँ के सच्चे सपूत है. धर्म का पालन करने वाले हिन्दू हैं तो
आईये " हल्ला बोल" के समर्थक बनकर धर्म और देश की आवाज़ बुलंद कीजिये...
अपने लेख को हिन्दुओ की आवाज़ बनायें.
इस ब्लॉग के लेखक बनने के लिए. हमें इ-मेल करें.
हमारा पता है.... hindukiawaz@gmail.com
समय मिले तो इस पोस्ट को देखकर अपने विचार अवश्य दे
देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच
हल्ला बोल

रविकर ने कहा…

बेस्ट ऑफ़ 2011
चर्चा-मंच 790
पर आपकी एक उत्कृष्ट रचना है |
charchamanch.blogspot.com

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...