LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

शुक्रवार, जून 27, 2014

प्री-क़्वाटरफाइनल में होगी जबरदस्त भिडंत

ब्राज़ील में चल रहा बीसवां विश्व कप नॉक ऑउट दौर में पहुंच चुका है । पहला दौर काफी उलटफेर भरा रहा । स्पेन, इटली, इंग्लैण्ड, पुर्तगाल, रूस, जापान, इक्वाडोर की टीमें दूसरे दौर में नहीं पहुंच पाई । गत चैम्पियन स्पेन का पहले दौर में बाहर होना सबसे बड़ी घटना रही । विश्व रैंकिंग और पिछले वर्षों के प्रदर्शन के आधार पर कुछ लोगों ने स्पेन को चैम्पियन बना दिया था । विश्व कप शुरू होने से पूर्व एक विशेषज्ञ द्वारा नॉक आउट दौर का पूरा शेड्यूल जारी कर दिया गया था । वास्तविक स्थिति देखने से पहले हम उस अनुमानित शेड्यूल को देखते हैं -
ग्रुप ए  - ब्राज़ील, क्रोशिया 
ग्रुप बी  - स्पेन, नीदरलैंड
ग्रुप सी - कोलंबिया, जापान 
ग्रुप डी  - इटली, इंग्लैण्ड 
ग्रुप इ  - फ़्रांस, इक्वाडोर 
ग्रुप एफ - अर्जेंटीना, नाइजीरिया 
ग्रुप जी - जर्मनी, पुर्तगाल 
ग्रुप एच - रूस, बेल्जियम 
वर्तमान स्थिति के साथ तुलना करें तो यह अनुमान पूरी तरह से गलत सिद्ध हुआ है । सिर्फ ग्रुप एफ में अनुमानित स्थिति सही सिद्ध हुई है । इसके अतिरिक्त अन्य ग्रुप्स में जो टीमें अनुमान के मुताबिक़ दूसरे दौर में पहुंची हैं उनकी ग्रुप स्थिति बदल गई है जिससे आगे का अनुमान पूरी तरह से गलत सिद्ध हुआ है । फिर भी अनुमान पर एक नजर तो डालते हैं - 
अनुमानित प्री-क़्वाटर फाइनल थे -
ब्राज़ील - नीदरलैंड 
क्रोएशिया - जापान 
कोलंबिया - इंग्लैण्ड 
जापान - इटली 
फ़्रांस - नाइजीरिया 
इक्वाडोर - अर्जेंटीना 
जर्मनी - बेल्जियम 
पुर्तगाल - रूस 
अनुमानित क़्वाटर फाइनल थे -
ब्राज़ील - इटली 
फ़्रांस - पुर्तगाल 
स्पेन - इंग्लैण्ड 
अर्जेंटीना - जर्मनी 
अनुमानित सेमी फाइनल थे -
ब्राज़ील - फ्रांस 
स्पेन - अर्जेंटीना 
अनुमानित फाइनल था - 
ब्राज़ील - स्पेन 
अनुमानित चैम्पियन था - 
स्पेन
जिस किसी ने भी इस शेड्यूल को बनाया था उसने सिर्फ आंकड़ों को देखा था और खेल मैदान पर खेल जाता है, कागज पर नहीं । फिर फ़ुटबाल एक टीम गेम है । वैसे तो यहां भी दो खिलाडी एक टीम में हों वो टीम गेम हो जाता है लेकिन कुछ गेम टीम गेम होकर भी व्यक्तिगत प्रदर्शन से प्रभावित होते हैं, जैसे कि क्रिकेट - एक बल्लेबाज़ की तूफानी पारी, एक गेंदबाज का एक जबरदस्त स्पैल मैच की दिशा बदल देता है, लेकिन फ़ुटबाल में पास देते हुए आगे बढ़ना होता है, आपके पास विश्व विख्यात स्ट्राइकर हैं लेकिन अगर दूसरे  साथी उसे सही पास नहीं दे रहे या उसके पास को सही ढंग से ले नहीं रहे तो उसकी प्रतिभा धारहीन हो जाती है । इतना ही नहीं यदि स्ट्राइकर तालमेल से खेल रहे हैं और डिफेंस या गोलकीपर अपनी भूमिका नहीं निभा रहा तो भी टीम नहीं जीत सकती ।पुर्तगाल इसका प्रमुख उदाहरण है क्योंकि रोनाल्डो जैसा स्टार खिलाड़ी भी इस  टीम को दूसरे दौर में नहीं पहुंचा पाया ।  इस प्रकार के खेल में उचित तालमेल  बेहद जरूरी है और जो टीम तालमेल के साथ खेलती है वह विश्व विख्यात न होते हुए भी उलटफेर कर जाती है जैसे की कोस्टारिका, अल्जीरिया ने किया है । यहां तक स्पेन का संबंध है विश्व कप शुरू होने से पहले ही उनकी विशिष्ट खेल शैली संदेह के घेरे में थी । पिछले छह साल से विश्व जगत में राज करवाने वाली उनकी छोटे पास की शैली ( टिकी - टाका ) अन्यों टीमों को समझ आने लगी थी और विश्व कप से पूर्व मिले कुछ मैचों में मिली हार ने प्रश्न उठाया था कि क्या स्पेन इस शैली को विश्व कप में छोड़ेगा लेकिन एक दम से पुरानी शैली नहीं छोड़ी जा सकती । स्पेन पुरानी शैली के साथ खेला लेकिन इस बार उसका जादू नहीं चला । 
                                इसके अतिरिक्त ब्राजील के कोच स्कोलरी ने भविष्यवाणी की है कि इस बार का फाइनल ब्राज़ील और अर्जेंटीना के बीच होगा । पहले दौर के बाद तो यह अंदाजा काफी अर्थ रखता है, लेकिन इसके सच होने में अभी बहुत रुकावटें हैं क्योंकि अगर ब्राज़ील को फाइनल तक का सफर करना है तो उसे चिली, कोलंबिया,  जर्मनी से भिड़ना होगा और अर्जेंटीना को फाइनल तक के सफर के लिए स्विट्ज़रलैंड, बेल्जियम, नीदरलैंड को हराना होगा । ये सब अनुमान हैं, अनुमान को छोड़कर अब हम वास्तविक स्थिति पर आते हैं । 
वास्तविक ग्रुप स्थिति है  - 
ग्रुप ए  - ब्राज़ील, मैक्सिको  
ग्रुप बी  - नीदरलैंड, चिली 
ग्रुप सी - कोलंबिया, ग्रीस 
ग्रुप डी  - कोस्टा रिका, उरग्वे 
ग्रुप इ  - फ़्रांस, स्विट्ज़रलैंड 
ग्रुप एफ - अर्जेंटीना, नाइजीरिया 
ग्रुप जी - जर्मनी, अमरीका 
ग्रुप एच - बेल्जियम, अल्जीरिया 
वास्तविक  प्री-क़्वाटर फाइनल हैं  -
ब्राज़ील - चिली 
कोलंबिया - उरग्वे 
मैक्सिको - नीदरलैंड 
ग्रीस - कोस्टा रिका 
फ्रांस - नाइजीरिया 
जर्मनी - अल्जीरिया
स्विट्जरलैंड - अर्जेंटीना 
बेल्जियम - अमरीका 
प्री-क़्वाटरफाइनल के सभी मैच रोमांचक होंगे इसमें कोई संदेह नहीं और क़्वाटरफाइनल कौन खेलेगा इसका अनुमान लगाना भी टेढ़ी खीर है फिर भी जिन टीमों से ज्याद उम्मीद ही वे हैं - ब्राज़ील, नीदरलैंड, फ्रांस, जर्मनी और अर्जेंटीना । कम से कम इनको क़्वाटरफाइनल में देखना हर कोई फुटबाल प्रेमी चाहेगा । बेल्जियम को शुरू से ही छुपा रुस्तम माना जा रहा है , अत: उसके क्वाटर फाइनल तक पहुंचने की उम्मीद हम कर सकते हैं । 
क्वाटरफाइनल हेतु मेरा अनुमान - 
ब्राज़ील - कोलम्बिया 
नीदरलैंड - कोस्टा रिका
फ्रांस -  जर्मनी 
अर्जेंटीना - बेल्जियम
यह सिर्फ अनुमान है और इस अनुमान का कोई आधार नहीं और संभवत: इसमें उलटफेर हो । उलटफेर की संभावना है इसलिए मैं सिर्फ इसी दौर का अनुमान लगा रहा हूँ, सेमी फाइनल कौन खेलेगा और कौन चैम्पियन बन सकता है इसकी कल्पना बाद में की जानी चाहिए । फिलहाल तो वक्त है प्री-क्वाटरफाइनल्स की जबरदस्त भिडंत देखने का । 
                               ************

3 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (28-06-2014) को "ये कौन बोल रहा है ख़ुदा के लहजे में... " (चर्चा मंच 1658) पर भी होगी!
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

आशीष भाई ने कहा…

बहुत ही सुंदर लेख व लेखन , विर्क सर धन्यवाद !
I.A.S.I.H - ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

आशा जोगळेकर ने कहा…

रोचक।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...