LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

सोमवार, दिसंबर 20, 2010

Har ka skaratmk pahloo

भारतीय टीम का दूसरी पारी का साहसिक संघर्ष रंग न ला सका और द. अफ्रीका ने पारी और 25 रन से मैच जीत लिया . परिणाम को देंखें तो यह स्थिति निराशाजनक है, लेकिन यदि इस बात को देखा जाए कि टीम बिना अभ्यास मैच के खेलने उतरी थी तो उतनी निराशा नहीं होनी चाहिए जितनी की स्थिति को देखकर हो रही है . एक पारी के अन्तराल के बाद  ही बल्लेबाजों ने दूसरी पारी में सराहनीय प्रदर्शन किया . शतकों के बादशाह सचिन का तो कहना ही क्या . सहवाग, गंभीर , द्रविड़, और कप्तान धोनी के प्रदर्शन की भी सराहना होनी चाहिए . अगर हम इस मैच की दूसरी पारी की तरह ही आगे बल्लेबाज़ी करेंगे तो निश्चित रूप से द.अफ्रीका को चुनौती मिलेगी . गेंदबाजों को गलती सुधारने का मौका नहीं मिला. यह पक्ष चिंता का विषय है . द.अफ्रीका को 300 के अंदर रोकना ही होगा, नहीं तो बल्लेबाज़ कितनी भी मेहनत करें जीत हासिल होना मुश्किल है. बल्लेबाज़ी में रैना, लक्ष्मण, अभी तक कमजोर कड़ियाँ हैं . लक्ष्मण के बारे में चिंता की जरूरत नहीं . हाँ, रैना टेस्ट करियर की शानदार शुरुआत के बाद पटरी से उतरे हुए हैं . उनका प्रदर्शन अगर न सुधरा तो अनुभवी युवराज़ की कमी खलेगी . वैसे चयनकर्ताओं को यूसफ पठन को टेस्ट कैप देने के बारे में सोचना होगा . 

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...